गरीब बच्चे भी अब बनेंगे IAS और IPS, सरकार ने शुरू की नयी योजना

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने बड़ी पहल करते हुए मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत अभ्युदय कोचिंग सेंटर की शुरुआत की है।

जहां आईएएस, पीसीएस, नीट और इंजीनियरिग के अलावा एनडीए, सीडीएस और दूसरी सैन्य सेवाओं के लिए कोचिंग सेवाएं दी जा रही है.

कोचिग सेंटर के नोडल बाराबंकी के एडीएम राकेश कुमार सिंह बनाए गए हैं।

कोचिंग में यूपीएससी के 131 और नीट के 36, जेईई के 18 और एनडीए, सीडीएस के  13 अभ्यर्थी अभ्युदय कोचिंग सेंटर के लिए चयनित हैं, इनकी अलग-अलग कक्षाएं  चल रही हैं।

कोचिंग में प्रवक्ता के अलावा जिला स्तरीय अधिकारी अभ्यर्थियों को पढ़ा रहे हैं और अपने अनुभवों को भी साझा कर रहे हैं।

सप्ताह में एक दिन जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी और एसडीएम भी यहां बच्चों को पढ़ा रहे हैं।

गौरतलब है कि यूपीएससी की परीक्षा के लिए लाखों छात्र विभिन्न स्थानों पर सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे होते हैं।

ऐसे में एक सच यह भी है कि अनगिनत छात्र कोचिंग की महंगी फीस को जमा करने  लायक नहीं होते। जिसके चलते वह अच्छी पढ़ाई नहीं कर पाते और काबिल होते हुए  भी अपना सपना पूरा नहीं कर पाते।

ऐसे ही छात्रों के लिए उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने बड़ी पहल  करते हुए मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना के तहत अभ्युदय कोचिंग सेंटर की शुरुआत  की है।

जहां आईएएस, पीसीएस, नीट और इंजीनियरिग के अलावा एनडीए, सीडीएस और दूसरी  सैन्य सेवाओं तथा पुलिस भर्ती से जुड़ी परीक्षाओं की मुफ्त कोचिंग की सुविधा  दी जा रही है।

इस योजना के तहत 282 दिन की कक्षाओं के बल पर छात्र-छात्राओं को सिविल सेवा समेत दूसरी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार किया जाएगा।